Padma Awards 2021: Full list of Padma Vibhushan, Padma Bhushan, Padma Shri recipients

Join WhatsApp GroupJoin Now
Join Telegram GroupJoin Now
3/5 - (1 vote)

Padma Awards 2021: 119 विभूतियां पद्म अवॉर्ड से सम्मानित, 7 को पद्मविभूषण, 10 को पद्म भूषण, 102 लोगों को पद्मश्री

Padma Shri Awards 2021: पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा, पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (मरणोपरांत), और धर्मगुरु कब्ले सादिक (मरणोपरांत) समेत 10 को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

हस्तियों को पद्म पुरस्कारों से सम्मानित करने का समारोह राष्ट्रपति भवन में हुआ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह भी इस सम्मान समारोह में मौजूद रहे.

Telegram Join

जापान के पूर्व प्रधान मंत्री शिंजो आबे, गायक एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत), सैंड कलाकार सुदर्शन साहू, पुरातत्वविद बीबी लाल को पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को मरणोपरांत पद्म भूषण दिया गया.

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा, पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (मरणोपरांत), और धर्मगुरु कब्ले सादिक (मरणोपरांत) समेत 10 को पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

102 पद्म श्री पुरस्कार पाने वालों में गोवा की पूर्व राज्यपाल मृदुला सिन्हा (मरणोपरांत), ब्रिटिश फिल्म निर्देशक पीटर ब्रूक, फादर वेल्स (मरणोपरांत), प्रोफेसर चमन लाल सप्रू (मरणोपरांत) का नाम शामिल है.

पद्म विभूषण (7)

शिंजो आबे (जनसेवा, जापान) –
जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे को जनसेवा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों लिए पद्म विभूषण सम्मान दिया गया है। उनके कार्यकाल में भारत-जापान के बीच द्विपक्षीय संबंधों में काफी प्रगति हुई थी। आबे ने साल 2007 में जापान, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता शुरू की थी। अगस्त 2007 में भारत की तीन दिवसीय यात्रा ने भारत और जापान के बीच मैत्रीपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों के लंबे इतिहास पर एक नए द्विपक्षीय एशियाई गठबंधन के लिए सहमति दी थी।

एसपी बालासुब्रमण्यम (मरणोपरांत) (कला, तमिलनाडु)-
देश के प्रसिद्ध गायक एसपी बालासुब्रमण्यम ने 50 साल के गायकी करियर में तेलुगू, तमिल, कन्नड़, हिंदी और मलयालम में 40,000 से ज्यादा गाने गाए थे। बाला ने तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और हिंदी भाषा की 40 से ज्यादा फिल्मों में संगीत निर्देशक का काम भी किया। उन्हें 2001 में पद्मश्री और 2011 में पद्मभूषण से नवाजा जा चुका है। उनका निधन 25 सितंबर 2020 को हुआ।

डॉ. बेल्ले मोनप्पा हेगड़े (चिकित्सा, तमिलनाडु) –
डॉ. बेल्ले मोनप्पा हेगड़े कर्नाटक के प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञ हैं। वे शिक्षाविद, प्रेरक वक्ता और लेखक भी हैं। उन्होंने चिकित्सा पद्धति और नैतिकता पर कई किताबें लिखी हैं। उन्हें 2010 में पद्म भूषण अवॉर्ड दिया गया था।

नरिंदर सिंह कपानी (विज्ञान और प्रौद्योगिकी, यूएसए) –
भारतीय मूल के अमेरिकी भौतिक वैज्ञानिक हैं। उन्हें फोर्ब्स मैगजीन ने बिजनेसमैन ऑफ द सेंचुरी एडिशन में अनसंग हीरोज के तौर पर नामित किया था। उन्होंने ही 1956 में फाइबर ऑप्टिक्स शब्द ईजाद किया था। कपानी के शोध और आविष्कारों में फाइबर-ऑप्टिक्स संचार, लेजर, बायोमेडिकल इंस्ट्रूमेंटेशन, सौर ऊर्जा और प्रदूषण निगरानी शामिल हैं। उनके पास सौ से अधिक पेटेंट हैं और नेशनल इन्वेंटर्स काउंसिल के सदस्य थे।

मौलाना वहीदुद्दीन खान (अध्यात्म, दिल्ली) –
दिल्ली में रहने वाले मौलाना वहीदुद्दीन खान का जन्म 1 जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में हुआ था। वे प्रसिद्ध इस्लामिक विद्वान और शांति कार्यकर्ता हैं। उन्हें सोवियत संघ के दौर में राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव ने डेमिर्गुस पीस इंटरनेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया था। उन्हें 2000 में पद्म भूषण से सम्मानित किया जा चुका है। इन्होंने कुरान को सरल और समकालीन अंग्रेजी में अनुवाद किया है और कुरान पर एक टिप्पणी भी लिखा है और ये कई टेलीविजन चैनलों पर व्याख्यान देते रहते हैं। 

बीबी लाल (पुरातत्व, दिल्ली) –
दिल्ली के प्रसिद्ध पुरातत्वविद बीबी लाल भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के महानिदेशक रह चुके हैं। उनकी किताब ‘राम, उनकी ऐतिहासिकता, मंदिर और सेतु: साहित्य, पुरातत्व और अन्य विज्ञान’ को लेकर खासी बहस हुई थी। इसमें विवादित ढांचे के नीचे मंदिर होने की बात कही गई थी। उन्हें पहले पद्म भूषण दिया जा चुका है।

सुदर्शन साहू (कला, ओडिशा) –
ओडिशा के सुदर्शन साहू प्रसिद्ध मूर्तिकार हैं। वे पौराणिक कथाओं को रेत की मूर्तियों में ढालने में माहिर हैं। उनकी बनाई कलाकृतियों की प्रदर्शनी देश-विदेश में प्रसिद्ध हैं। उन्हें पहले पद्म श्री से सम्मानित किया जा चुका है। वे अक्सर क्रिकेट मैच के दौरान खिलाड़ियों के भी चित्र उकेरते थे।

पद्म भूषण (10)

Sr.No.नामक्षेत्रराज्य
1.कृष्णन नायर शांतकुमारीकलाकेरल
2.तरुण गोगोई (मरणोपरांत)पब्लिक अफेयर्सअसम
3.चंद्रशेखर कंबरासाहित्य एंव शिक्षाकर्नाटक
4.सुमित्रा महाजनपब्लिक अफेयर्समध्य प्रदेश
5.नृपेंद्र मिश्रसिविल सर्विसउत्तर प्रदेश
6.राम विलास पासवान (मरणोपरांत)पब्लिक अफेयर्सबिहार
7.केशुभाई पटेल (मरणोपरांत)पब्लिक अफेयर्सगुजरात
8.कल्बे सादिक (मरणोपरांत)अध्यात्मवादउत्तर प्रदेश
9.रजनीकांत देवीदासउद्योगमहाराष्ट्र
10.तरलोचन सिंहपब्लिक अफेयर्सहरियाणा

पद्मश्री सम्मान (102)

नाम क्षेत्र राज्य
गुलफाम अहमदकलाउत्तर प्रदेश
पी अनीताखेलतमिलनाडु
रामास्वामी अन्ना वरापू कलाआंध्र प्रदेश
सुब्बू अरूमुगमकलातमिलनाडु
प्रकाशराव आशावादीसाहित्य और शिक्षाआंध्र प्रदेश
भूरी बाईकलामध्य प्रदेश
राधेश्याम बरलेकलाछत्तीसगढ़
धर्म नारायण बर्मासाहित्य और शिक्षापश्चिम बंगाल
लक्ष्मी बरुआसमाज सेवाअसम
बीरेंद्र कुमार बसककलापश्चिम बंगाल
रजनी बेक्टरव्यापार उद्योगपंजाब
पीटर ब्रूककलायूनाइटेड किंग्डम
संगखुमी बुकालच्वाकसमाज सेवामिजोरम
गोपीराम बरगायन बुराभकतकलाअसम
बिजोय चक्रवर्तीजनसेवाअसम
सुजीत चट्टोपाध्यायसाहित्य और शिक्षापश्चिम बंगाल
जगदीश चौधरी (मरणोपरांत)समाज सेवाउत्तर प्रदेश
सुल्ट्रीम चोनजोरसमाज सेवालद्दाख
माउमा दासखेलपश्चिम बंगाल
श्रीकांत दतरसाहित्य और शिक्षायूएसए
नारायण देबनाथकलापश्चिम बंगाल
चुटनी देवीसमाज सेवाझारखंड
दुलारी देवीकलाबिहार
राधे देवीकलामणिपुर
शांति देवीसमाज सेवाओडिशा
वयन डिबिया कलाइंडोनेशिया
दादूदन गढ़वीसाहित्य और शिक्षागुजरात
परशुराम आत्मराम गंगावनेकलामहाराष्ट्र
जय भगवान गोयलसाहित्य और शिक्षाहरियाणा
जगदीश चंद्र हलदरसाहित्य और शिक्षापश्चिम बंगाल
मंगल सिंहसाहित्य और शिक्षाअसम
अंशु जम्सेनपाखेलअरुणाचल प्रदेश
पुर्णमासी जानीकलाओडिशा
माथा बी मंजम्मा जोगातीकलाकर्नाटक
दामोदरन कैथा प्रामकलाकेरल
नाम देव सी कांब्लेसाहित्य और शिक्षामहाराष्ट्र
महेश भाई और नरेश भाई कनोडिया (मरणोपरांत)कलारजत कुमार
रजत कुमारसाहित्य और शिक्षाओडिशा
रंगास्वामी लक्ष्मीनारायण कश्यपसाहित्य और शिक्षाकर्नाटक
प्रकाश कौरसमाज सेवापंजाब
निकोलस कजानससाहित्य और शिक्षाग्रीस
के केशव सामीकलापुडुचेरी
गुलाम रसूल खानकलाजम्मू कश्मीर
लाखा खानकलाराजस्थान
संजीदा खातून कलाबांग्लादेश
विनायक विष्णु खेडेकरकलागोवा
नीरु कुमारसमाज सेवादिल्ली
लाजवंतीकलापंजाब
रतन लालविज्ञान और अभियांत्रिकीUSA
अली मानिकफननवोन्मेषलक्षद्वीप
रामचंद्र मांझीकलाबिहार
दुलाल मंकीकलाअसम
नानाद्रो बी मारककृषिमेघालय
रेवबेन माशांग्वाकलामणिपुर
चंद्रकांत मेहतासाहित्य और शिक्षागुजरात
रतनलाल मित्तलचिकित्सापंजाब
माधवन नामबियारखेलकेरल
श्याम सुंदर पालीवालसमाज सेवाराजस्थान
चंद्रकांत शांभाजी पांडवचिकित्सादिल्ली
सोलोमान पप्पायासाहित्य, शिक्षा, पत्रकारितातमिलनाडु
पप्पामलकृषितमिलनाडु
कृष्ण मोहन पाथीचिकित्साओडिशा
जसवंती बेन जमुनादास पोपटव्यापार उद्योगमहाराष्ट्र
गिरीश प्रभोनेसमाज सेवामहाराष्ट्र
नंदा प्रस्टीसाहित्य और शिक्षाओडिशा
केके रामचंद्र पुलावरकलाकेरल
बालन पुथेरीसाहित्य और शिक्षाकेरल
बिरुबाला राभासमाज सेवाअसम
कनक राजूकलातेलंगाना
बॉम्बेजयश्री रामनाथकलातमिलनाडु
सत्याराम रियांगकलात्रिपुरा
धनंजय दिवाकर सचदेवचिकित्साकेरल
अशोक कुमार साहूचिकित्साउत्तर प्रदेश
भूपेंद्र कुमार सिंह संजयचिकित्साउत्तराखंड
सिंधु ताई सपकालसमाज सेवामहाराष्ट्र
चमनलाल सप्रू (मरणोपरांत)साहित्य और शिक्षाजम्मू
रोमन शर्मासाहित्य, शिक्षा, पत्रकारिताअसम
इमरान शाहसाहित्य और शिक्षाअसम
प्रेमचंद्र शर्मा कृषिउत्तराखंड
अर्जुन सिंह शेखावतसाहित्य और शिक्षाराजस्थान
रामयत्न शुक्ला साहित्य और शिक्षाउत्तर प्रदेश
जितेंद्र सिंह शंटीसमाज सेवादिल्ली
करतार पारस राम सिंहकलाहिमाचल प्रदेश
करतार सिंहकलापंजाब
दिलीप कुमार सिंहचिकित्साबिहार
चंद्रशेखर सिंहकृषिउत्तर प्रदेश
सुधा हरिनारायण सिंहखेलउत्तर प्रदेश
बीरेंद्र सिंहखेलहरियाणा
मृदुला सिन्हा (मरणोपरांत)साहित्य और शिक्षाबिहार
केसी शिवशंकर (मरणोपरांत)कलातमिलनाडु
गुरुमां कमलीसोरेनसमाज सेवापश्चिम बंगाल
माराची शुब्बूरमनसमाज सेवातमिलनाडु
पी सुब्रमण्यन (मरणोपरांत)व्यापार उद्योगतमिलनाडु
नीदूमोलू सुमतीकलाआंध्र प्रदेश
कपिल तिवारीसाहित्य और शिक्षामध्य प्रदेश
फॉदर वॉल्स (मरणोपरांत)साहित्य और शिक्षास्पेन
थिरूवेंगदम वीरा राघवनचिकित्सातमिलनाडु
श्रीधर वेंबूव्यापार उद्योगतमिलनाडु
के वाई वेंकटेशखेलकर्नाटक
उषा यादवसाहित्य और शिक्षाउत्तर प्रदेश
कर्नल काजी सज्जाद अली जाहिरजनसेवाबांग्लादेश

16 लोगों को मरणोपरांत दिए गए पुरस्कार
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रपति ने 119 पद्म पुरस्कार दिए जाने को मंजूरी दी है जिनमें सात पद्म विभूषण, 10 पद्म भूषण और 102 पद्मश्री हैं। पद्म पुरस्कार विजेताओं में 29 महिलाएं हैं। इनमें 10 लोग विदेशी, प्रवासी भारतीय, पीआईओ और ओसीआई तथा एक व्यक्ति ट्रांसजेंडर श्रेणी से हैं। इनमें 16 लोगों को पद्म पुरस्कार मरणोपरांत दिए गए।

किन्हें मिलता है पद्म सम्मान?

विभिन्न क्षेत्रों में विशेष योगदान देने वालों को ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया जाता है. असाधारण और प्रतिष्ठित सेवा के लिए ‘पद्म भूषण’ उच्च क्रम की विशिष्ट सेवा के लिए और किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट सेवा के लिए ‘पद्म श्री’ से सम्मानित किया जाता है.

WhatsApp Group Join Now

NEW Telegram Group Join Now

Leave a Comment

error: Content is protected !!